TOP FACT ABOUT SANCHI STUPA IN HINDI | HISTORY OF SANCHI STUPA,sanchi stupa information in hindi,tupa history,sanchi stupa full information in hindi

  FACT ABOUT SANCHI STUPA IN HINDI | HISTORY OF SANCHI STUPA


SANCHI STUPA IMAGES

 

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है हमारे हिंदी ब्लॉग मुझे आज हम बात करेंगे सांची के स्तूप के बारे में जी हां दोस्तों इस ऐतिहासिक स्तूप का निर्माण  मौर्य   साम्राज्य के प्रसिद्ध शासक द्वारा अशोक ने बनाया था  जो की तीसरी शताब्दी में इशापुर में बना था,इसकी निर्माण का कार्य सम्राट अशोक ने अपनी पत्नी महादेवी  सक्या कुमारी को सौंप दिया था । 


 सांची स्तूपा का इतिहास HISTORY OF SANCHI STUPA IN HINDI

सम्राट अशोक और उनकी पत्नी महादेवी सत्या कुमारी का विवाह भी सांची में हुआ था I इसलिए सम्राट अशोक और उनकी पत्नी ने सांची स्तूप के कार्य का निर्माण कराया इस स्तूप को पहले ईंटों से बनाया गया था फिर बाद शुंगह काल में पत्थरों से इसे ढक दिया गया था । इस स्तूप में तोरण द्वारा और कट घरों का निर्माण सातवहन मे किया गया था जिन्हें सुंदर रंगों में रंगा गया था



ऐसा माना जाता है कि दीवारों के ऊपर बनाई गई कलाकृतियों और आकारों को सातवहन के राजा सत्करणी ने निर्धारित किया था 


WHAT IS STUPA IN HINDI स्तूप क्या होते हैं ?

STUPA एक पवित्र बौद्ध स्थल है जिसे चैत्य भी कहा जाता है इनका आकार एक अर्धगोलाकार किले के जैसा होता है इसका उपयोग पवित्र बोध अवशेषज्ञों को रखने के लिए किया जाता है और वहां पर भगवान गौतम बुद्ध की आराधना की जाती हैमाना जाता है महा परी निर्माण के दौरान भगवान गौतम बुद्ध ने उनके शिष्य आनंद से कहा था कि उनके मरने के बाद उनके अवशेषों को फैला कर पूरे देश में उनके STUPA बनाए जाए


TOP FACTS ABOUT SANCHI STUPA सांची स्तूपा के रोचक तथ्य 

रांची में स्थित स्तूप भारत में सबसे  पुराने पत्थर की रचना है जिसका निर्माण तीसरी शताब्दी में सम्राट मौर्य द्वारा किया गया था। यह स्तूप 14वीं शताब्दी तक निर्जन हो गया था क्योंकि किसी भी शासक ने इसके निर्माण के ऊपर इतना ध्यान केंद्रित नहीं किया था । इस स्तूप की खोज 1818 में ब्रिटिश अधिकारी जर्नल टेलर ने की थी 


इस स्तूप की निर्जन व्यवस्था को देखकर ब्रिटिश सरकार ने सर जॉन मार्शल को इसके पुनर्निर्माण का कार्य सौंप  सर जॉन मार्शल ने 1912 से लेकर 1919  सर जॉन मार्शल ने  फिर से SANCHI STUPA की संरचना कर इसे फिर से खड़ा किया,यह टूट भारत का सबसे ऊंचा रूप है  जिसकी ऊंचाई लगभग 2164 मीटर और व्यास 365 मीटर है 


इस स्तूप मे चार तौरन द्वार भी है जिसमे GAUTAM BUDDHA की जीवन से लेकर मरन तक की सारी कथाएं चित्रित है । वर्ष 19 मे सर जोन मढ़सल ने इसके संग्राक्षित करने के लिए एक संग्रहालय की स्थापना की जिसके बाद SANCHI STUPA संग्रहालय मे परिवर्तित हो गया । sanchi नामक स्थान पर गौतम बुद्धा द्वारा कभी भी इसका दौरा नहीं किया था भले ही आज यहाँ बौद्ध धर्म का ऐतिहासिक महत्व हो 


इस स्तूप का निर्माण बौद्ध धर्म और बौद्ध अध्ययन सीखने के लिए किया जाता है । इस स्तूप मे स्थित सबसे निकट सबसे प्रसिद्ध अशोक सितंभ जिसमे सारन्थ जिसमे चारसेर शामिल है पाया गया है । सांची के पहले स्तूप मे बड़ी संख्या मे ब्राह्मीलिपि  मे शिलालेख पाए गए हैं , इस स्तूप की सारांचना और शिल्प कार्य को देखते हुए 1979 मे UNISCO द्वारा विश्वधर स्थल भी घोषित किया जा चुका है 


SANCHI STUPA FAQ


>  where is Sanchi Stupa located ?

SANCHI STUPA located in Sanchi Madhya Pradesh state India


>Who built Sanchi Stupa ?

 Sanchi Stupa is built by Samrat Ashok Maurya


> What inside Sanchi Stupa ?

 Buddha temple 


Previous
Next Post »