ये कहानी आपको स्कूल मे नहीं सुनाई गई new best inspirational story in hindi-Father and son

ये कहानी आपको स्कूल मे नहीं सुनाई गई new best inspirational story in hindi-Father and son 

motivational stories in hindi,students motivational story hindi,inspirational story in hindi,best hindi motivational story

 नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत  हमारे ब्लॉग himachaljosh.in मे जहां आपके लिए ले के आता हूँ moral stories ,motivational stories ,inspirational stories हिन्दी मे ,दोस्तों आज भी मई एक ऐसी कहानी ले के आया हूँ जो आपकी सोच को एक नई दिशा दे देगी और मई उम्मीद करता हूँ कि यह मोटिवेशन कहानी आपको पसंद आएगी और अगर आपको यह hindi story पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share करें क्या पता आपके एक share से किसी कि जिंदगी बदल जाए और आप किसी के प्रेरक बन जाए 

Best inspirational story in hindi-Father and son- पिता और पुत्र Painting Motivational Story Hindi 

एक समय की बात है एक एक आदमी पैंटिंग्स बनाया करता था वह रोज एक पेंटिंग बनाता और उसे दिन में जा के 500 रुपये में जा के बेच आता था वह रोज एक पेंटिंग बनता और बाजार में जा के बेच आता लेकिन अब वह बूढ़ा हो रहा था और अब पेंटिंग करते समय उसके हाथ कांपने लगे थे और वह अब अच्छे से पेंटिंग नहीं बना पा रहा.

उसने सोचा क्यों न वह अपनी पेंटिंग्स का हुनर अपने बेटे को सिखाये तो अब उसने अपने बेटे को पेटिंग बनाना सीखा दिया, बेटा अब पेंटिंग्स बनाना सीख चुका था बेटे ने अपनी पहली पेंटिंग बना ली और उसे बाजार में बेच के आया और निराश लौटा बाप ने पूछा क्यों निराश हो तुम? तो बेटा कहता है की मेरी पेंटिंग 200 रूपए में ही बिकी लेकिन आपको कुछ ऐसा पता है जो आप मुझे नहीं बता रहे हो 


बाप ने इस बार बेटे की कला को और निखारा और अगली बार बेटा बाजार में 300 रूपए की पेंटिंग बेच के आया और निराश था और फिर एक बार बेटे ने सवाल किया की आप मुझसे अपना बेहतर छिपा रहे हो और इस बार फिर बाप ने अपनी साड़ी कला बेटे को सीखा दी और इस बार बेटा बाजार में 700 रूपए की पेंटिंग बेच के आया 

जब बेटा घर आया तो बहुत खुश था और बाप भी बहुत खुश था अगले दिन जब बेटा पेंटिंग बना रहा तो बाप को कुछ कमी दिखी तो  टोका  यह तुम गलत कर रहे हूँ इसे ऐसे नहीं करना चाहिए तो बेटा कहता है मैंने आपसे महंगी पेंटिंग बेची है और मुझे यही सही लग रहा है. तो इसपर बाप कहता है की अब तुहारी पेंटिंग 700 रूपए से महंगी नहीं बिकेगी 

तो बेटा कहता है क्यों इसपर बाप नदी ही धैर्य से कहता है की जब मै तुम्हारी उम्र का था तो मेरे पिताजी 300 रूपए में पेंटिंग बेचते थे और मने भी उन्हें यही जवाब दिया था की मैंने आपसे बेहतरीन पेंटिंग बनाई और आपसे ज्यादा दामों में पेंटिंग बेच के आया हूँ उस दिन से मेरा सीखना बंद हो गया था और मई कभी 500 रूपए से ऊपर पेंटिंग नहीं बेच पाया और तुम भी नहीं बेच पाओगे


 क्योंकि जबतक तुम अपने पेंटिंग्स के दामों से खुश नहीं थे तो तुम्हे खुद को और बेहतरीन करने के लिये प्रेरित होना पड़ता था लेकिन जिस दिन दिन तुम अपने पेंटिंग्स के दामो से खुश हो गए तो तुम्हारा खुद को बेहतरीन बनाना भी बंद हो गया लेकिन बेटे को यह बात समझ आ गयी और उसने अपने पिताजी से और भी बहुत कुछ सीखा।  


Moral Of The Inspirational Story In Hindi:इसी तरह दोस्तों हमें भी हमेशा सीखना चाहिये कभी भी सीखना बंद नहीं करना चाहिए जिस दिन हमने सीखना बंद किया उस दिन हम भी रुक जाएंगे 

अगर आपको यह short hindi inspirational story पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर सहारे करें और ऐसी ही motivaational stories,hindi kahaniya,motivational thoughts,motivational in hindi और भी कही हिन्दी स्टोरीज के लिए  himachaljosh.in पर लॉगिन करे 

WEB TITLE:moral kahani,motivatioal kahani,intresting story in hindi,real stories in hindi,good stories in hindi,hindi success,ispiration in hindi,latest story in hindi motivatioal kahani in hindi,best motivational stories,inspirational ,best moral stories in hindi,very short story in hindi,inspirational real stories,motivational and inspirational story,

Previous
Next Post »