सोच बदल देंगी यह 5 कहानिया- 5 best and latest motivational story in hindi for success

सोच बदल देंगी यह 5 कहानिया- 5 motivational story in hindi for success


हम सारी जिंदगी दौड़ते रहते हैं बस इसी उम्मीद मे की एक दिन जिदगी को जियेंगे,जो बातें हमारी जिंगी के लिए आवश्यक होती है ज्यादातर लोग उसे भविष्य के लिए छोड़ देते है कि भविष्य मे करेंगे इतने साल काम करेंगे इतने साल मेहनत करेंगे और उसके बाद जा कर कहीं हम आराम करेंगे उसके बाद हम यह करेंगे उसके बाद हम जिंदगी जियेंगे लेकिन दोस्तों यह जो बाद है न यह कभी आता ही नहीं है और यह ज़िंदगी हाथों से निकाल जाती है 


Live Life Now Hindi Motivational Story 

1. एक बहुत अमीर व्यक्ति था उसने अपना सारा जीवन पैसे कमाने मे लगा दिया उसके पास बहुत पैसा था और जो चाहे खरीद सकता था। लेकिन उस व्यक्ति ने जिंदगी मे किसीए कि मदद नहीं कि उसने जिंदगी मे अपने लिए भी धन का उपयोग नहीं किया। 


उसनी सारी जिंदगी न अपने सपने पूरे किये ना अच्छा खाया न अछा पहना बस सारी जिंदगी धन की कमाता रहा और पैसे कमाते कमाते उसे पता ही नहीं चला कि कब उसे बुढ़ापा आ गया, अब उसका जीवन का आखिरी दिन था और मृत्यु उसे लेने आ गई वह मृत्यु से कहने लगा कि अभी तो मैंने अपनी जिंदगी जी ही नहीं मैंने इतना पैसा कमाया वो अभी खर्च भी नहीं किया। 


लेकिन मृत्यु ने कहा कि अब तुम्हारा जिंदगी का सारा समय समाप्त हो चुका है और अब इसे बड़ाया नहीं जा सकता उसने मृत्यु से कहा कि तुम मेरा आधा धन ले लो और मुझे 1 साल दो जिंदगी जीने के लिए मृत्यु ने माना कर दिया उसने फिर कहा तुम मेरा 90 प्रतिशत धन ले लो और मुझे 1 महिना दे दो मृत्यु ने फिर माना कर दिया उसने फिर कहा कि तुम मेरा सारा धन ले लो और मुझे 1 दिन का समय दे दो ,


मृत्यु ने उसे समझाया कि तुमने अपना सारा जीवन धन कमाने मे बीता दिया और अब तुम्हें मे 1 मिनट भी नहीं दे सकती, तुमने समय मे धन तो कमा लिया लेकिन धन से समय नहीं कमाया जाता। जब उस आदमी को समझ आ गया कि मई अपनी सारी जिंदगी का मोल पैसे देकर नहीं खरीद सकता तो जिंदगी का मोल कितना बड़ा है 


इस कहानी से हमे यह शिक्षा मिलती है कि हम भी अपने जिंदगी के future plans बनाते है कै लोग तो यहाँ तक सोचते हैं कि वह रिटाइर होने के बाद यह करेंगे लेकिन वास्तव मे कल है ही नहीं जो करना है आज करना है जिंदगी जीनी है तो आज जीनी है उसे कल पे मत टालो 


भले ही आप पैसा कमाओ अपने सपने पूरे करो लेकिन इन सब के बीच आप अपनी जिंदगी जीना मत भूल जाना 




2. Do It Now Tommorow Will Never Come Motivational Story In Hindi

यह कहानी है महाभारत के समय की महाराज युधीशटर बहुत बड़े महात्मा थे जो भी उनके पास कुछ मांगने आता था वह उनकी इच्छा पूरी करते थे, एक दिन एक ब्राह्मण अपनी बेटी की शादी के लिए उनसे कुछ आर्थिक सहायता लेने आया लेकिन उस समय महाराज युधीशटर व्यस्त थे और उन्होंने कहा कि आप कल आना यह बात सुनकर वह ब्राह्मण वहाँ से निराश हो के लौट गया 


मार्ग मे उस ब्राह्मण को भीमसेन मिल गए महीमसें ने उस ब्राह्मण से पूछा कि तुम इतने उदास होकर क्यों जा रहे हो क्योंकि जो भी हमारे महल मे आता है वह खुश हो के जाता है और तुम उदास हो के जा रहे हो ऐसा क्यों? तो उस ब्राह्मण ने कहा कि मैं राजा युधीशटर के पास गया था और उन्होंने मुझे कहा कि आप कल आना 


यह बात सुनकर भीमसेन ने सारे शहर मे धिनडोरा पीट दिया कि कि महाराज युधीशटर  ने काल को जीत लिया यह बात राजा युधीशटर तक भी पहुँच गई और जब युधीशटर ने पूछा कितुमने यह क्या और क्यों कहा भीमसेन कहता है कि आपसे एक ब्राह्मण सहायता माँगनी आया था और आपने  उसको यह कह के भेज दिया कि कल आना तो इसका मतलब यही हुआ कि आपको पता है कि आप कल जीवित रहोगे और ब्राह्मण भी जीवित रहेगा और कल तक आपके पास यह राज्य और धन भी रहेगा तो आपने तो काल को ही जीत लिया क्योंकि आपको तो कल का पता है 


यह बात सुनकर युधीशटर को अपनी गलती का एहसास हो गया और उसने उसी समय उस ब्राह्मण को बुलाया और उसकी बेटी की शादी के लिए धन दिया। दोस्तों बात तो छोटी सी है लेकिन इसमे शिक्षा बहुत बड़ी है के ज़िंदगी के जो भी जरूरी काम है जो हमे कल पर कभी भी नहीं टालने चाहिए। मैंने यह बहुत बार सुना है कि हम कल से करेंगे लेकिन दोस्तों असल मे उनका कल आता ही नहीं है और जो लोग आज अभी से काम कैट है कल पर नहीं टालते वह लोग हमेशा कामयाब होते हैं 


3. Dont Forget To Live Life

तीसरी कहानी भी हमारी इसी विषय पर है एक व्यक्ति अपनी जिंदगी मे बहुत धनी बनना चाहता था और वह एक साथ बहुत काम करने लगा जसिकी वजह से वह बहुत सारे कामों मे उलझ जाता था जिसकी वजह से उसकी यदाश कमजोर होने लगी वह जरूरी बातों को भी भूल जाता था और उसकी यह भूलने की बीमारी और बढ़ गई वह हर बात को थोड़ी ही देर मे भूल जाता था 


एक दिन उसकी तबीयत खराब हो गई उसको पेट दर्द हो गया और वह वैदय के पास गया पुराने समय की बात है उस समय doctors नहीं होते थे। उस वेदय को पता चल गया कि इसकी भुलने की बीमारी की वजह से वह कुछ भी खाता है और वैदय ने उसे सलाह दी कि तुम अब सिर्फ खिचड़ी ही खाना 


लेकिन उस व्यक्ति ने कहा कि मुझे भूलने कि बीमारी है और कहीं मई घर पहुंचते पहुंचते भूल ना जाऊ कि मुझे क्या खाना है वैदय ने कहा आप चिंता मत करो और यहाँ से अपने घर तक खिचड़ी खिचड़ी बोलते जाओ रास्ते मे वह खिचिड़ी की जगह खाचिड़ी बोलने लगा और वहाँ एक किसान अपने खेत मे चिड़िया उदय रहा होता है और जब वह सुनता है कि यह तुम क्या बोल रहे हो तो वह कहता है कि मुझे एक साधु ने कहा कि तुम्हें यह सारे रास्ते मे बोलना है किसान ने कहा कि तुम्हें जिसने भी कहा हो मई यहाँ चिड़िया भागा रहाँ हु और तुम खाचिड़ी बोल रहे हो 


तो उस व्यक्ति ने पूछा कि फिर मुझे क्या बोलना चाहिए तो किसान ने कहा कि तुम बोलो उड़चिड़ी उड़चिड़ी कहो । अब वह उड़चिड़ी कहने लगा रास्ते मे एक शिकारी मिला उसने जब यह सुना तो उसको चांटा लगाया और कहा कि मैं  यहाँ चिड़िया फ़साने की कोशिश कर रहा हूँ और तुम हो कि उड़चिड़ी उड़चिड़ी कह रहे हो 


तो इसपर वह व्यक्तिमखने लगा कि तुम कहो कि आटे जाओ और पिंजरे मे फसते जाओ फिर वह व्यक्ति यही बोलने लगा रास्ते मे उसे चोर मिले जब उन्होंने यह सुना तो उन्हे लगा कि यह हमे फ़साना चाहता है उन्होंने उसे बहुत मारा तो वह व्यक्ति कहता है कि अब मुझे क्या कहना चाहिए तो उन चोरों ने कहा कि अब तुम्हें यह कहना है कि इसे छोड़ कर आओ और दूसरा लेकर आओ 


वह यावक्ती यह कहकर जा ही रहा था मार्ग मे लोग किसी मृत व्यक्ति को शमशान ले कर जा रहे थे जब उन लोगों यह सुना कि इसे छोड़कर आओ और दूसरा लेकर आओ तो सभी लोगों ने उसे बहुत फटकार लगाई तो फिर उसने पुचः कि अब मई क्या कहूँ तो उन्होंने कहा कि अब तुम कहो कि ऐसा किसी के साथ ना हो 


अब वह थोड़ी ही डोर जाता है अरु वहा रास्ते मे एक बारात जा रही होती है और जब वह बाराती यह सुनते है कि ऐसा किसी के साथ न हो तो वह उसे मारते है और कहते हैं कि हमारे घर मे इतना खुशी का दिन है और तुम कह रहे हो कि ऐसा किसी के साथ ना हो तो वह कहता है कि अब उसे क्या कहना चाहिए तो वह सभी बाराती कहते हैं कि ऐसा घर घर मे हो 


वह थोड़ी ही दूर चलता है वहाँ एक घर मे आग लागि होती है और  सभी गाँववाले उस आग को बुझाने मे लगे होते  हैं और वह जब यह सुनते है कि ऐसा घर घर मे हो तो वह उसे वहाँ भी मारते हैं और कहता हैं कि यहाँ आग लग गई है और तुम बोल रहे हो कि ऐसा घर घर मे हो तो इसपर वह व्यक्ति कहता है कि अब आप ही मुझे बताएं कि मई क्या कहूँ तो इसपर गाँववाले कहते हैं कि तुम कहो आग बुझ जाए 


यह कहकर अभी वह व्यक्ति आगे बढ़ ही रहा होता है उसे रास्ते मे एक कुमार मिलता है जो कि घड़े बना रहा होता है और जब वह यह सुनता है कि आग बुझ जाए तो वह कहता है कि तुम यह बोलना बंद करो वरना मई तुम्हारी खिचड़ी बना दूंगा, यह सुनकर उस व्यक्ति को याद आ जाता है कि उसे खिचड़ी बोलने को कहा जाता है 


वह व्यक्ति यह सोचने लगा कि मई तो एक शब्द ही बुलाया हूँ तो मुझे इतनी मार मिली है लेकिन जो लोग जिंदगी को जीना ही भूल जाते हैं उन्हे ज़िंदगी से कितनी मार मिलती होगी। दोस्तों यह कहानी भी हमारी ही जिंदगी से जुड़ी है हम भी जिंदगी मे जो जरूरी बातें होती है उन्हे भूल जाते है जो हम करना चाहते है उसे हम नहीं करते और बदले मे हमे तकलीफों परेशानियों का सामना करना पड़ता है 


लेकिन अगर हम ज़िंदगी मे धयं लगाना खुश रहना और अपने आप को समझना ना भूलें तो हम भी खुश रह सकते हैं । दोस्तों यह तीनों कहानिया हमे यह शिक्षा देती हैं कि अगर हम जिंदगी मे खुश रहना जिंगी को जीना न भूलें तो हम अपनी जिंदगी बिना किसी परेशानियों के जी सकते हैं 


4Father and Son Motivational Story In Hindi 

एक गाँव मे एक मूर्तिकार रहा करता था वह गाँव मे बहुत अछि मूर्तियाँ बनाया करता था और इस काम से वह अच्छा खास कमा लेता था जिससे कि उसका जीवन चल सके,एक दिन उसे एक बेटा हुआ बेटा बड़ा हुआ और उस बच्चे ने बचपन से ही मूर्तियाँ बनानी शुरू कर दी। बेटा बहुत अछे मूर्तियाँ बनाया करता था और पिता अपने बेटे के काम को देखर बहुत खुश होता था 


बेटा अछी मूर्तियाँ तो बनाता था लेकिन बाप हर बार कोई न कोई कमी निकाल देता था वह हर बार कहता था कि बहुत अच्छा किया है लेकिन अगली बार इस कमी को दूर कर देना, बेटा भी कोई शिकायत नहीं करता था और बाप की सलाह पर अमल करता रहा और मूर्तिया बनाता रहा 


इस लगातार सुधार से बेटे की मूर्तियाँ बाप से भी अछी बनने लगी और ऐसा समय

यहाँ क्लिक करके  Father and Son Motivational Story In Hindi को पूरी पढ़ें  



5. Best hindi Motivational story- डर से जीत 
एक गाँव की बात है काफी समय पहले की वहाँ एक गुफा थी उस गुफा को लोग मौत की गुफा के नाम से जानते थे कोई भी उस गुफा के आसस पास भी नहीं जाना चाहता था इसका कारण यह था कि उस गुफा मे 300 से ज्यादा लोग जा चुके थे और कोई भी वापस लौट के नहीं आया था 


अब ससमजदारी की बात की जाए तो आज के नौजवान बहुत समजदार होते है सीधे शब्दों मे कहूँ तो आप भी समजदार हैं आपकी सोच भी दूसरों से अलग हो सकती है वहाँ के लोग डरते हुए या सोच सोच के ही समय निकाल रहे थे और उसे समय गाँव मे एक नौजवान आया 

नौजवान ने ये सब बाते सुनी कि गुफा मे इतने लोग गए और वापिस ही नहीं आए अब उसे इन सब बातों पर यकीन नहीं हुआ उसने सोचा कि आज के जमाने मे भी ऐसा हो सकता है तो उसने वहाँ जाने का ते किया और ऐसे ही बिना बताए चला गया और सछई किसी को पता नहीं चल पाई उसने गाँव वालों को बताया दिया कि वो उस गुफा मे जा रहा है 


कुछ दिनों मे सब गाँव वालों को पता चल गया कि वह लड़का उस गुफा मे जाने वाला है अब सब गाँव वाले उस के घर

 

WEB TITLES: motivatoional story in hindi for success,motivational story in hindi for student,short motivational story in hindi,short motivational story in hindi language,latest motivational story in hindi,short motivational story i hindi,inspiration moral stories in hindi,motivational story in hindi pdf,inspirational stories in hindi,short inspirational story in hindi,any inspirational story in hindi,motivational kahaani in hindi,small motivational story in hindi,success motivational story,inspirational story for studens,ias motivational story,kahani motivational,motivational kahani,motivational topic in hindi,education story in hindi for studens,kahani for students in hindi,motivational story in hindi free download.


Previous
Next Post »