New Akbar Birbal ki Story hindi 2020-बीरबल की खिचड़ी

New Akbar Birbal story hindi 2020-बीरबल की खिचड़ी 
this is new akbar birbal story hindi 2020 which is best collection of akbar birbal story,read this akbar birbal new hindi story tou will definitely love this story


नमशकार दोस्तों आपका हमारे ब्लॉग himchaljosh.in मे स्वागत है दोस्तों आज मई फिर आपके लिए ले के आया हूँ एक बेहतरीन New akbar birbal story hindi 2020 जो मै उम्मीद करता हूँ आपको बहुत पसंद आएगी तो चलिए बिना आपका समय गवाएं शुरू करते इस बेहतरीन akbar birbal kahani को 

दोस्तों एक समय की बात है राजा अकबर अपने कुछ मंत्रियों के साथ सुबह ठंड मे सैर करने निकलते है वह मंत्रियों के साथ चर्चा करने लगते हैं कि इतनी ठंड मे लोग बाहर काम करने नहीं निकलते है लेकिन इसपर बीरबल कहते हैं कि नहीं महाराज ऐसा नहीं है इतनी ठंड मे भी कुछ ऐसे लोग है जो चंद पैसे कमाने के लिए मेहनत करते है 

राजा अकबर थोड़ी दूर चल कर एक तालाब के पास गए उन्होंने उस पानी को छुआ और पानी बहुत ठंडा था राजा अकबर बीरबल को चुनौती देने लगे कि कोई है जो पूरी रात इस तालाब के ठंडे पानी मे एक रात गुजार सके हम उन्हे 100 सोने के अशरफियाँ देंगे। 

सभी मंत्री कहने लगतेहाई कि महाराज ऐसा कोई नहीं है जो पूरी रात इस भाफ भरे ठंडे पानी मे गुजार सके,लेकिन बीरबल कहते है महाराज हमारी रियासत मे ऐसे लोग हैं जो कुछ पैसे कमाने के लिए पूरी रात इस ठंडे पानी मे गुजार सकते है 

शहनशाह अकबर बीरबल को चुनौती दे देते  है और अगले ही दिन सुबह दरबार बीरबल एक आदमी को दरबार मे लेकर हाजिर हो जाते हैं और राजा अकबर से कहते है कि माहाराज यह है वो आदमी जो पूरी रात ठंड मे उस ठंडे पानी मे रहेगा  

अगले दिन सुबह वह आदमी जिसने पूरी रात पानी मे गुजारी होती है वह दरबार मे आता है जब अकबर उससे पूछता है क्या तुमने पूरी रात गुजारी पानी मे तो उसने जवाब दिया जी हाँ जहाँपना मैंने पूरी रात पानी मे गुजारी राज्य अकबर को विश्वास नहीं हो रहा था उसने सैनिकों से पुचः जो वहाँ पहरा दे रहे थे सैनिकों ने भी कहा कि इस आदमी ने पूरी राय ठंडे पानी मे गुजारी है 

शहंशाह अकबर हैरान हो गया और उससे पूछा कि तुमने कैसे ठंडे पानी मे पूरी रात गुजारी तो इसपर वह आदमी कहता है जहाँपना पानी के पास एक दीपक जला था मै उस दीपक को पूरी रात देखता रहा और भगवान का नाम लेता रहा,यह सुनकर अकबर को गुस्सा आ गया और कहने लगा तो टतुमने उस दीपक से गर्मी ली और यह कहकर उसे इनाम नहीं देते है 

यह सुनकर बीरबल को बुरा लगता है और वह उस आदमी का इनाम दिलवाने का ठान लेते हैं और अपने घर चले जाते है अगली सुबह जब बीरबल दरबार मे हाजिर नहीं होते तो अकबर पूछते हैं कि बीरबल कहाँ रह गए इसपर मंत्री कहते है कि बीरबल घर मे खाना बना रहे बहुत देर हो जाती है एक बार फिर अकबर मंत्री को भेजते हैं लेकिन फिर वही जवाब आता है कि बीरबल खाना बना रहे है। 

इस बार शहंशाह अकबर खुद ही बीरबल के घर चले जाते हैं और वहाँ क्या देखते है बिरबल एक हांडी को आग के बहुत ऊंची दूरी पर रखे हुए खिचड़ी बना रहे होते हैं इसपर अकबर उनसे पूछते हैं कि ऐसे तुम्हारी खिचड़ी कैसे बनेगी यह बहुत दूर है इस पर आग नहीं पहुंचेगी 

तो दोस्तों बीरबल कहते है कि महाराज जिस तरह इस हांडी मे दूर तक आग की तपन नहीं पहुँच सकती तो एक दूर जलते दीपक से कसे किसी को गर्मी मिल सकती है। दोस्तों बीरबल ने इस तरह उस आदमी को उसके हक का इनाम दिलवाया और एक बार फिर साबित कर दिया कि क्यों उन्हे हाजिर जवाब कहा जाता है 

Web Title:akbar birbal story in hindi with moral,akbar birbal story in hindi pdf,akbar birbal story in hindi writing,akbar birbal story in hindi with pictures,akbar birbal ki story in hindi,akbar birbal non veg short stories in hindi,akbar birbal story in hindi written,akbar birbal story in hindi book,akbar birbal story in hindi short,akbar birbal story in hindi download,akbar birbal story in hindi cartoon,akbar birbal story in hindi language,akbar birbal all story in hindi


Previous
Next Post »